Tradition…

Tradition tells us who we are, it sets us apart from other traditions.

It tells who we are, what we wear and what we eat…

It binds & places us together in society…

It defines and guides us with a way of living…

It may not define our path but it defines how we follow a path…

So let’s embrace the tradition as a guide.

A guide may not always be right but it always has good intentions for the pupils.

A Mind’s Favourite Time Pass….

 

Minds Favourite Time pass

Past, Pity, and Anger
A Mind’s Favourite Time Pass
So most of the time it spends with them
Even though it knows there is nothing beneath them

Hence lend your mind Action and Act
Don’t allow it to play dwelling act.

If only you control the mind
And keep believing in Action.
Action becomes you in time
And Life becomes Inspiring & Kind.

 

छिप-छिप अश्रु बहाने वालों / गोपालदास “नीरज”

छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों
कुछ सपनों के मर जाने से, जीवन नहीं मरा करता है।

सपना क्या है, नयन सेज पर
सोया हुआ आँख का पानी
और टूटना है उसका ज्यों
जागे कच्ची नींद जवानी
गीली उमर बनाने वालों, डूबे बिना नहाने वालों
कुछ पानी के बह जाने से, सावन नहीं मरा करता है।

माला बिखर गयी तो क्या है
खुद ही हल हो गयी समस्या
आँसू गर नीलाम हुए तो
समझो पूरी हुई तपस्या
रूठे दिवस मनाने वालों, फटी कमीज़ सिलाने वालों
कुछ दीपों के बुझ जाने से, आँगन नहीं मरा करता है।

खोता कुछ भी नहीं यहाँ पर
केवल जिल्द बदलती पोथी
जैसे रात उतार चांदनी 
पहने सुबह धूप की धोती
वस्त्र बदलकर आने वालों! चाल बदलकर जाने वालों!
चन्द खिलौनों के खोने से बचपन नहीं मरा करता है।

लाखों बार गगरियाँ फूटीं,
शिकन न आई पनघट पर,
लाखों बार किश्तियाँ डूबीं,
चहल-पहल वो ही है तट पर,
तम की उमर बढ़ाने वालों! लौ की आयु घटाने वालों!
लाख करे पतझर कोशिश पर उपवन नहीं मरा करता है।

लूट लिया माली ने उपवन,
लुटी न लेकिन गन्ध फूल की,
तूफानों तक ने छेड़ा पर, 
खिड़की बन्द न हुई धूल की,
नफरत गले लगाने वालों! सब पर धूल उड़ाने वालों!
कुछ मुखड़ों की नाराज़ी से दर्पन नहीं मरा करता है!